अतिथि

अद्‌भुत भारत की खोज
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
गणराज्य इतिहास पर्यटन भूगोल विज्ञान कला साहित्य धर्म संस्कृति शब्दावली विश्वकोश भारतकोश
Tranfer-icon.png यह लेख परिष्कृत रूप में भारतकोश पर बनाया जा चुका है। भारतकोश पर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें
लेख सूचना
अतिथि
पुस्तक नाम हिन्दी विश्वकोश खण्ड 1
पृष्ठ संख्या 89
भाषा हिन्दी देवनागरी
संपादक सुधाकर पाण्डेय
प्रकाशक नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
मुद्रक नागरी मुद्रण वाराणसी
संस्करण सन्‌ 1973 ईसवी
उपलब्ध भारतडिस्कवरी पुस्तकालय
कॉपीराइट सूचना नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
लेख सम्पादक बलदेव उपाध्याय,सदगोपाल।

अतिथि अतिथि के प्रति पूज्य भावना की सत्ता वैदिक आर्यों में अत्यंत प्राचीन काल से है। ऋग्वेद में अनेक मंत्रों में अग्नि से अतिथि को उपमा दी गई है। (8।74।3-4)। अतिथि वैश्वानर का रूप माना जाता था (कठ. 1।1।7) इसीलिए जल के द्वारा उसकी शांति करने का आदेश दिया गया है। अतिथिर्नमस्य (अतिथि पूज्य है)- भारतीय धर्म का आधारपीठ है जिसका पल्लवन स्मृति ग्रंथों में बड़े विस्तार से किया गया है। उनमें अतिथि के लिए आसन, अर्थ तथा मधुपर्क का विधान हुआ है। महाभारत का कथन है कि जिस पर से अतिथि भग्नमनोरथ होकर लौटता है उसे वह अपना पाप देकर तथा उसका पुण्य लेकर चला जाता है। अतिथिसत्कार को पंचमहायज्ञों में स्थान दिया गया है। अग्नि का भी और दाशरथी राम के पौत्र अर्थात्‌ कुश के पुत्र का भी एक नाम अतिथि था। कुशपुत्र अतिथि के विषय में कहा जाता है कि उसने दस हजार वर्षों तक राज्य किया। इनके अतिरिक्त शिव को भी उक्त संज्ञा प्राप्त है।

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
भ्रमण
भारतकोश
सहायता
टूलबॉक्स