अनंतवर्मन

अद्‌भुत भारत की खोज
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
गणराज्य इतिहास पर्यटन भूगोल विज्ञान कला साहित्य धर्म संस्कृति शब्दावली विश्वकोश भारतकोश
Tranfer-icon.png यह लेख परिष्कृत रूप में भारतकोश पर बनाया जा चुका है। भारतकोश पर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें
लेख सूचना
अनंतवर्मन
पुस्तक नाम हिन्दी विश्वकोश खण्ड 1
पृष्ठ संख्या 106
भाषा हिन्दी देवनागरी
संपादक सुधाकर पाण्डेय
प्रकाशक नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
मुद्रक नागरी मुद्रण वाराणसी
संस्करण सन्‌ 1973 ईसवी
उपलब्ध भारतडिस्कवरी पुस्तकालय
कॉपीराइट सूचना नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
लेख सम्पादक भगवतीशरण उपाध्याय।

अनंतवर्मन चोड गंग कलिंग के गंग राजकुल का प्रधान नरेश था। उसने अपने कुल का यश दूर-दूर तक फैलाया। उसकी माता राजसुंदरी चोडनरेश राजेंद्र चोड की कन्या थी। अनंतवर्मन्‌ ने संभवत: 1077 से 1147 ई. तक, लगभग 70 वर्ष, राज्य किया। उसने उत्कलों को जीतकर गोदावरी और गंगा के बीच के देशों से कर वसूल किया, परंतु पालनरेश रामपाल के सामने संभवत: उसे एक बार झुकना पड़ा। अनंतवर्मन्‌ ने ही पुरी के विख्यात जगन्नाथ जी के मंदिर का निर्माण कराया था, जो, यद्यपि कला की दृष्टि से तो विशेष महत्वपूर्ण नहीं है, तथापि भारत के आज के समृद्धतम मंदिरों में से है। सेनराज विजयसेन ने उसके पुत्रों के समय कलिंग पर आक्रमण किया था।

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
भ्रमण
भारतकोश
सहायता
टूलबॉक्स