कूरील द्वीपपुंज

अद्‌भुत भारत की खोज
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
गणराज्य इतिहास पर्यटन भूगोल विज्ञान कला साहित्य धर्म संस्कृति शब्दावली विश्वकोश भारतकोश
Tranfer-icon.png यह लेख परिष्कृत रूप में भारतकोश पर बनाया जा चुका है। भारतकोश पर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें
लेख सूचना
कूरील द्वीपपुंज
पुस्तक नाम हिन्दी विश्वकोश खण्ड 3
पृष्ठ संख्या 86-87
भाषा हिन्दी देवनागरी
संपादक सुधाकर पांडेय
प्रकाशक नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
मुद्रक नागरी मुद्रण वाराणसी
संस्करण सन्‌ 1976 ईसवी
उपलब्ध भारतडिस्कवरी पुस्तकालय
कॉपीराइट सूचना नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
लेख सम्पादक नवलकिशोरप्रसाद सिंह

कूरील द्वीपपुंज उत्तरी प्रशांत महासागर में ३२ द्वीपों की एक श्रृंखला जो कैमचैटका प्रायद्वीप से जापान के होकैडो (Hokkaido) द्वीप तक फैली है। यह उत्तर में कुरील जलसंयोजक द्वारा कैमचैट्का से और दक्षिण में नेमूरो जलसंयोजक द्वारा होकैडो से तथा पश्चिम में ओरवाटसक सागर द्वारा साइबेरिया से पृथक है। कूरील द्वीपपुंज लगभग ६५० मील तक फैले हैं। इनका संपूर्ण क्षेत्रफल २,९०० वर्गमील है। इसके बड़े द्वीपों के नाम हैं-पारामूशीरो, (Paramushiro) शीमूशीरो (Shimushiro) उरु प्पू (uruppu), ऐटोरोफू (Etorofu) शिकोटन (Shikotan) तथा कुनाशीर (Kunashir)। इन द्वीपों का निर्माण ज्वालामुखियों के उद्गार द्वारा तुरीय (क्वाटरनरी ) युग में हुआ था। यहाँ ४० ज्वालामुखी हैं जिनमें से २२ जाग्रतावस्था में हैं। कूरील द्वीपपुंज की सर्वोच्च चोटी ओयाकोवे डेक की ऊँचाई ७,६५४ फुट है। कुनाशीरो शीमा में गंधक प्राप्त होता है।

इस द्वीपपुंज की जलवायु अति शीतल है। इसके पूर्व में ओयाशीवो नामक ठंडी जलधारा प्रवाहित होती है। यहाँ शीतकाल में अनेक बर्फीले तूफान आते हैं तथा अक्टूबर से अप्रैल तक तुषारपात होता है। इन द्वीपों के निकट संसार का एक प्रसिद्ध मत्स्यक्षेत्र है जहाँ स्नेहमीन (कॉड), माहपृथुमीन (हेलीवट), बहुला (हेरिग), सारडिन आदि मछलियाँ पकड़ी जाती हैं। पहले यह द्वीपपुंज सागर उद्र तथा सील के रोएँ के लिए प्रसिद्ध था, किंतु अब यहाँ केवल सागरशेर (Sea lion) तथा ह्‌वेल पाए जाते हैं।

इसका अन्वेषण १६४३ ई. में मार्टिन गेरीट्सजून वराइस (Maerten Gerritszoon Vries) नामक एक डच नाविक ने किया था। जब रूसी लोगों को इस द्वीप के विषय में पता चला तब उन्होंने इसका नाम कूरील रखा; जो क्यूरइट (धुआँ) का अपभ्रंश है। अगस्त, १९४५ ई. तक यह द्वीपपुंज जापानियों के अधीन था। वे लोग इसे चिशीमा (Chishima) अथवा सहस्र द्वीपपुंज कहते थे। द्वितीय विश्वयुद्ध में जापान की हार के पश्चात यह द्वीपपुंज रूस के अधीन हो गया। अब केवल शिकोटन तथा कुनाशीर नामक दक्षिणी द्वीप जापान के अधीन हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
भ्रमण
भारतकोश
सहायता
टूलबॉक्स