टंग्स्टन

अद्‌भुत भारत की खोज
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
गणराज्य इतिहास पर्यटन भूगोल विज्ञान कला साहित्य धर्म संस्कृति शब्दावली विश्वकोश भारतकोश
लेख सूचना
टंग्स्टन
पुस्तक नाम हिन्दी विश्वकोश खण्ड 5
पृष्ठ संख्या 109
भाषा हिन्दी देवनागरी
संपादक फूलदेव सहाय वर्मा
प्रकाशक नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
मुद्रक नागरी मुद्रण वाराणसी
संस्करण सन्‌ 1964 ईसवी
उपलब्ध भारतडिस्कवरी पुस्तकालय
कॉपीराइट सूचना नागरी प्रचारणी सभा वाराणसी
लेख सम्पादक रमेशचंद्र कपूर

टंग्स्टन (Tungsten) अथवा वोल्फ्रमा (Wolfram) आवर्त सारणी के छठे अंतर्वर्ती समूह (transition group) का तत्व है। प्राकृतिक अवस्था में इसके पाँच स्थायी समस्थानिक पाए जाते हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ १८०, १८२, १८३, १८४ तथा १८६ हैं। इनके अतिरिक्त १८१, १८५ तथा १८७ द्रव्यमान संख्याओं के रेडियधर्मी समस्थानिक कृत्रिम साधनों द्वारा निर्मित हुए हैं।

१८वी शताब्दी तक टंग्स्टन के अयस्क टिन के ही यौगिक माने जाते थे। सन्‌ १७८१ में शेले (Scheele) नामक वैज्ञानिक ने यह सिद्ध किया कि इसके अयस्क में नवीन अम्ल वर्तमान है, जिसे उसने टंग्स्टिक अम्ल कहा। इसके बाद धातु द्वारा इस अम्ल के निर्माण की भी पुष्टि हुई। इस तत्व के दो मुख्य अयस्क हैं :

  1. शीलाइट (Scheelite)
  2. वोल्फ्रमाइट (Wolframite)।

शीलाइट अयस्क में प्रधानत:- कैल्सियम टंग्स्टेट, कै टं औ४ (Ca WO४), रहता है और वोल्फ्रमोइट में लौह तथा मैंगनीज टंग्स्टेट, लो टं औ४, मैं टं औ४ (FeWO४. Mn WO४), का संमिश्रण रहता है। टंग्स्टन के मुख्य उत्पादक बरमा, चीन, जापान, बोलिविया, संयुक्त राज्य (अमरीका) और आस्ट्रेलिया हैं।

टंग्स्टन अयस्क को सांद्रित कर सोडियम कार्बोनेट, सो२ का औ३ (Na२CO३), से मिलाकर परावर्तन भ्राष्ट्र में लगभग १,०००० सें० तक गरम करते हैं। इस क्रिया द्वारा सोडियम टंग्स्टेट, सो२ टं औ४ (Na२WO४),बनता है ओर लौह, मैंगनीज आदि अपने कार्वोनेटों में परिणत हो जाते हैं। सोडियम टंग्स्टेट गरम पानी में विलेय है और इस प्रकार सम्मिश्रण से अलग हो सकता है। तत्पश्चात उबलते हाइड्रोक्लोरिक अम्ल, हाक्लो (HCl),की क्रिया द्वारा टंग्स्टिक अम्ल अवक्षेपित हो जाता है, जिसे सुखाकर दहन करने पर पीले रंग का टंग्स्टन ऑक्साइड, टंऔ३ (WO२), मिलता है। हाइड्रोजन द्वारा ऑक्साइड के अवकरण से टंग्स्टन धातु तैयार होती है।

भौतिक गुण निर्माण

टंग्स्टन घूमिल श्वेत रंग की धातु है। इसके भौतिक गुण निर्माण की विधि पर निर्भर करते हैं। कुछ भौतिक गुणाधर्म निम्नलिखित हैं :

टंग्स्टन धातु हवा में गरम करने पर अप्रभावित रहती है। खनिज अम्लों तथा अम्लराज का उसपर कोई प्रभाव नहीं होता। केबल सांद्र नाइट्रिक एवं हाइड्रोफलोरिक अम्ल के मिश्रण में टंग्स्टन विलेय है। क्षार के विलय द्वारा उस पर कोई अभिक्रिया नहीं होती, परंतु संगलित क्षार में वह विलेय है।

टंग्स्टन में बहुसंयोजकता का गुण है। उसके योगिक ३,४,५, एवं ६ संयोजकता में प्राप्य हैं। इसके अतिरिक्त टंग्स्टन के अनेक सवर्गीय यौगिक (co ordination compounds), मिलते हैं।

बिजली के बल्बों के तंतुओं में टंग्स्टन का बहुत उपयोग होता है। दूसरी धातुओं में मिलाने पर उनकी कठोरता बढ़ जाती है, जिस कारण टंग्स्टन का उपयोग काटने के औजार, शल्यचिकित्सा के यंत्र आदि की मिश्रधातुओं में होता है, क्योंकि ये मिश्रधातुएँ अम्ल, क्षार आदि से प्रभावित नहीं होतीं। एक्सरे उपकरण, थर्मायनिक वाल्ब, बिजली के जोड़ आदि में टंग्स्टन का उपयोग हो रहा है। टंग्स्टन मिश्रित इस्पात बहुत से विशेष कार्यों में उपयोगी सिद्ध हुआ है। इस कारण इस्पात उद्योग में इसका उपयोग बहुतायत से होता है। टंग्स्टन इस्पात के पुर्ज़े बहुत कठोर, टिकाऊ तथा न घिसनेवाले होते हैं।



टीका टिप्पणी और संदर्भ

निजी टूल
नामस्थान
संस्करण
क्रियाएं
भ्रमण
भारतकोश
सहायता
टूलबॉक्स